• الأردن: 0096278140993 - 00962790633919, الإمارات: 00971564999475 - 00971501299947 - 00971564880709
  • الجزائر: 0549996833, تونس: 0021671805607, بريطانيا: 00447517362128 - 00447519398225 - 00447519398239
  • تركيا: 0095539440472, أمريكا: 0017736162627 - 0017735728151 - 0018472850055

दुनिया की सबसे बड़ी वैज्ञानिक दस्तावेज स्वास्थ्य साइट अपने परिवार की खुशी और स्वास्थ्य के लिए, विज्ञान और विश्वास के साथ हम संतुलन करते हैं

93784790

मैं जायफल और इसकी उत्पत्ति के बारे में पूछना चाहता हूँ।

मैं जायफल और इसकी उत्पत्ति के बारे में पूछना चाहता हूँ।



क्या खाने में इसका इस्तेमाल हराम (वर्जित) समझा जाता है? वो भी इसके नशीले पदार्थों के कारण? कृपया मुझे सलाह दें।

उत्तर:

प्राचीनकाल में, जायफल को भोजन में मिलाकर गर्भनिरोधक दवा के तौर पर इस्तेमाल किया जाता था, खास करके उन्नीसवीं सदी में। (Dasgupta, 2011)  हालाँकि, आजकल, इसका कोई चिकित्सीय उपयोग नहीं होता, लेकिन जायफल से कुछ सक्रिय पदार्थ सफलतापूर्वक निकाले गए हैं। ऐसा पाया गया है कि इन पदार्थों में जीवाणुरोधी प्रभाव होता है खास करके स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटान पर, जो कि दांत की सड़न और मैल पैदा करने वाला एक मशहूर कीटाणु है। (Chung et.al., 2006)  जायफल का उपयोग ब्लड कैंसर में पाए जाने वाले कई तरह की कैंसर कोशिकाओं को रोकने के लिए किया जाता था (Piaru et.al., 2012) 

ऐसा माना जाता है कि अगर जायफल की ज्यादा मात्रा ली जाए, तो यह मानसिक रूप से बहुत असर करता है, पर अगर इसकी कम मात्रा ली जाती, तो इसका कोई असर नहीं होता। (Aronson, 2009)  मानसिक रूप से प्रभावी पदार्थ का मतलब है, हर वो रासायनिक पदार्थ जो दिमाग की संवहनी (वैस्कुलर) रुकावटों से गुजर सकता है, न्यूरॉन तक पहुँच सकता है और फिर हमारे मूड, अनुभूति या व्यवहार पर असर कर सकता है। (Rankovic et.al., 2012)   जागरूक बनने में या महसूस करने में भी बदलाव आ सकता है। जायफल से कुछ इस तरह के प्रभाव पड़ते हैं और इसकी ज्यादा मात्रा लेने से ज्यादा उत्साह आ जाता है, गड़बड़ी होने लगती है, सिरदर्द होता है, जी मिचलाता है, चक्कर आते हैं, याददाश्त कमज़ोर होती है, दृष्टिभ्रम होने लगते हैं और सिर घूमता है।(Hanson et.al., 2014)  https://goo.gl/JoSa2w शराब पीने जैसे लक्षण दिखने लगते हैं। यह असर कई दिनों तक रहता है, मतलब शराब का नशा जितने समय तक रहता है उससे भी कहीं ज्यादा समय इसका असर रहता है। (Tisserand et.al., 2013) 

जायफल का इस्तेमाल वैध रूप से करने के लिए मुझे साईद अल-फवायद द्वारा इस्लामी अधिकार मिला है

डॉ. नायेफ बिन अहमद अल-हमद ने कहा:

कुछ समकालीनों ने बताया है कि जायफल में एक मोटा पीला पदार्थ होता है जिसे अल-तीब वसा कहा जाता है। इसमें 4% नशीला पदार्थ होता है। अगर जायफल को बेतरतीब ढंग से या ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल किया जाए, तो इसके कुछ नुकसान होंगे जैसे कि दृष्टिभ्रम। इसके बड़े नुकसानों की वजह से सऊदी सरकार ने इसे बेचने पर रोक लगा दी है। (Al-Hamad)  

उन्नत वैज्ञानिकों ने इसके घटकों और नुकसान के बारे में जो जाना है उसके आधार पर इसके  उपयोग के बारे में उनकी दो राय हैं । वैज्ञानिकों ने सर्वसम्मति से सहमति व्यक्त की है कि यह हराम (निषिद्ध) है। जैसा कि इब्न हजर को जायफल के बारे में पूछा गया है, उन्होंने कहा कि मेहनती इमाम इब्न दाकीक अल ईद ने कहा, "यह मादक और संवेदनाहारी के समान काम करता है। हनीफी स्कूल ने कहा: "यह मादक है, फिर उन्होंने जो कहा है उसपर लागू होता है"। यह साबित हुआ है कि चार इमाम (शफी, मलिकी और हनबली) ने कहा है कि यह पाठ से प्रतिबंधित है। दूसरी ओर, हनीफ़ी ने कहा कि आवश्यक होने पर यह मादक या नशीला होता है। (Al-Hamad)

इसलिए मुझे उम्मीद है कि जायफल का उपयोग करने की सीमाओं के बारे में इन क्षेत्रों के विशेषज्ञों के अनुसार मैं वैज्ञानिक और न्यायशास्त्र संबंधी रिपोर्ट बता सकता हूँ।


जमिल अल क़ुद्सी

एमडी-एमएससी सीएएम-डुप एफएम



Al-Hamad, N. B. A. حكم استخدام جوزة الطيب [Online]. Available: http://www.saaid.net/Doat/naif/6.htm [Accessed December,4. 2016].


Aronson, J. K. 2009. Meyler's side effects of herbal medicines, Elsevier.


Chung, J., Choo, J., Lee, M. & Hwang, J. 2006. Anticariogenic activity of macelignan isolated from myristica fragrans (nutmeg) against streptococcus mutans. Phytomedicine, 13, 261-266.


Dasgupta, A. 2011. Effects of herbal supplements on clinical laboratory test results, De Gruyter.


Hanson, G. R., Hanson, U. U. S. L. C. U. G. R., Venturelli, P. J. & Fleckenstein, A. E. 2014. Drugs and society, Jones & Bartlett Learning, LLC.


Piaru, S. P., Mahmud, R., Majid, A. M. S. A. & Nassar, Z. D. M. 2012. Antioxidant and antiangiogenic activities of the essential oils of myristica fragrans and morinda citrifolia. Asian Pacific journal of tropical medicine, 5, 294-298.


Rankovic, Z., Bingham, M. & Hargreaves, R. 2012. Drug discovery for psychiatric disorders, Royal Society of Chemistry.


Tisserand, R. & Young, R. 2013. Essential oil safety: A guide for health care professionals, Elsevier Health Sciences UK.




videos balancecure


Share it



Subscribe with our newsletter


Comments

No Comments

Add comment

Made with by Tashfier

loading gif
feedback